एजुकेशन समाचार»

सीबीसीएस के कोर्स को कॅरियर से जोड़ा छात्रों को डिग्री के बाद सीधे नौकरी मिलेगी

सीबीसीएस के कोर्स को कॅरियर से जोड़ा छात्रों को डिग्री के बाद सीधे नौकरी मिलेगी


डीयू में लागू हुए क्रेडिट बेस्ड च्वाइस सिस्टम (सीबीसीएस) से बीए ऑनर्स, बीए प्रोग्राम और बीएससी की पढ़ाई बदल जाएगी। इतिहास पढ़ने वाले छात्र पयर्टन और आर्कियोलॉजी को भी पढ़ेंगे। वहीं गणित और इकोनॉमिक्स के छात्र स्टैटिकल एनालिसिस और शेयर मार्केट को जान सकेंगे। सीबीसीएस का कोर्स तैयार करने वाले प्रोफेसर का कहना है कि सभी कोर्स को कॅरियर से जोड़ दिया गया है। इससे छात्रों को डिग्री के बाद सीधे नौकरी मिलेगी।

पढ़ने होंगे 22-26 पेपर: आर्यभट्ट कॉलेज के प्रिंसिपल और सीबीसीएस कमेटी के सदस्य मनोज सिन्हा के मुताबिक छात्र स्तानक में 22 पेपर की पढ़ाई करेंगे। इसमें 14 पेपर उसके विषय के होंगे जिन्हें कोर के तौर पर जाना जाएगा। बाकी पेपर इलेक्टिव होंगे जो विषय से जुड़े हुए होंगे। इनकी संख्या चार होगी जबकि चार अन्य पेपर स्किल से जुड़े होंगे।

सिन्हा के मुताबिक अगर कोई छात्र विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में ऑनर्स की पढ़ाई करता है तो इसकी पढ़ाई के साथ पॉर्लियामेंटरी स्टडीज जैसे पेपर की पढ़ाई भी करेगा। ऐसे में छात्र जब डिग्री लेकर निकलेगा तो वह आसानी से नौकरी पा सकेगा।

बदलेंगी तमाम चीजें: सीबीसीएस लागू होने के बाद पढ़ाई, मूल्यांकन और असेसमेंट के तरीका जरूर बदल जाएगा। छात्रों को विषय अंकों की बजाए ग्रेड हासिल होंगे। स्तानक, परास्नातक, सर्टिफिकेट और डिप्लोमा कोर्स सभी की पढ़ाई सीबीसीएस से ही होगी।

loading...