भारत के समाचार»

सर्दी से पूरा उत्तर भारत काँपा, पहाड़ो पर भी हो रही है जबरदस्त बर्फ़बारी, अगले 4-5 दिनों तक राहत की उम्मीद नहीं


सर्दी से पूरा उत्तर भारत काँपा, पहाड़ो पर भी हो रही है जबरदस्त बर्फ़बारी, अगले 4-5 दिनों तक राहत की उम्मीद नहीं


नई दिल्ली। पहाड़ो में पड़ रही बर्फ़बारी से सर्दी ने अपना सितम ढाना समूचा उत्तर भारत कड़ाके की सर्दी की चपेट में है।बहुत से मैदानी इलाकों में तापमान शून्य से भी नीचे माइनस डिग्री में चला गया है। 
उत्तर प्रदेश के मथुरा में तापमान 0 डिग्री, सहारनपुर मे माइनस 2, आगरा में .8, हरियाणा के नारनौल में माइनस .5 डिग्री तक चला गया है इससे पूरा जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है । 
राजस्थान मे सीकर के फतेहपुर में भी तापमान माइनस 3.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ जिससे नलो में पानी जम गया है ।दिल्ली में भी बुधवार को इस सीजन का सबसे सर्द दिन दिन दर्ज किया गया। वहीं जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा और बिहार के बाकि इलाको में भी में खून जमा देने वाली सर्दी पड़ रही है।

पहाड़ी इलाकों में हो रही जबरदस्त बर्फबारी के चलते दिल्ली में बुधवार को पूरे दिन गलन रही। न्यूनतम तापमान और नीचे गिरकर 4 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। मौसम विभाग की माने तो  11 जनवरी इस सीजन का सबसे ठंडा दिन रहा। दिल्ली में जाफरपुर और लोधी रोड पर तापमान तो और भी कम था। इन दोनों ही जगहों पर यह क्रमश: 2.1 और 2.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। गुरुवार को भी ऐसी ही स्थिति बनी रहेगी। न्यूनतम तापमान 4 डिग्री ही रहने की संभावना है। शुक्रवार को यह 3 डिग्री तक गिर सकता है। शनिवार और रविवार को फिर से बारिश होने की भी संभावना है।

उधर जम्मू कश्मीर के श्रीनगर में न्यूनतम तापमान के लगातार जमाव बिंदु से नीचे जाने के चलते डल झील समेत सभी जलस्रोत फिर से जमने लगे हैं। यहां तक कि श्रीनगर के नलों में पानी भी जमने लगा है। बुधवार को विश्व प्रसिद्ध पर्यटन स्थल गुलमर्ग न्यूनतम तापमान -13 डिग्री सेल्सियस के साथ घाटी का , और लेह -16 डिग्री सेल्सियस के साथ पूरे राज्य का सबसे ठंडा क्षेत्र रहा।


उत्तराखंड में भी कड़ाके की सर्दी ने जनजीवन अस्त व्यस्त किया हुआ है । चारो धाम समेत पहाड़ो की चोटियों पर लगातार बर्फबारी ने इसमें और भी इजाफा कर दिया है। देहरादून में भी बुधवार इस सीजन का सबसे ठंडा दिन रहा। यहां न्यूनतम पारा 2.9 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। मसूरी, नैनीताल, मुनस्यारी, हरिद्वार में तो न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे चल रहा है।


मैदानी इलाक़ो में उत्तर प्रदेश में देर से ही सही लेकिन रिकार्ड सर्दी पड़ने लगी है , प्रदेश में दिन भर सर्द हवाओं से लोगों के हाड़ कांप गए। मथुरा यू पी का सबसे ठंडा जिला रहा। यहां पारा पंद्रह साल का रिकार्ड तोड़ते हुए 0 डिग्री पर आ गया। 

सहारनपुर में 62 साल का रिकार्ड तोड़ते हुए पारा -2 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। मुजफ्फराबाद मौसम वेधशाला के मुताबिक, बुधवार को न्यूनतम तापमान -2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो 62 वर्ष में सबसे कम है। तीसरे स्थान पर मुजफ्फरनगर का तापमान 1.5 डिग्री रहा। पश्चिम के कई जिलों मंगलवार रात खेतों में इतना पाला गिरा कि पौधों और फसलों पर बर्फ की परत देर तक जमी रही।

राजस्थान में भी हाड़ जमा देने वाली सर्दी पड़ रही है । राजस्थान में कई इलाकों में बीती रात पारा जमाव बिंदु से नीचे खिसक गया, जिसके चलते प्रदेश के कई हिस्सों में घरों, खलिहानों में बर्फ की चादर बिछ गई। सीकर के फतेहपुर में बीती रात पारा माइनस 3.5 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ। फलौदी में तापमान लगातार दूसरे दिन आज जमाव बिन्दु से नीचे रहा है।


हरियाणा में भी न्यूनतम तापमान शून्य डिग्री तक पहुँच चूका है ।  बुधवार को नारनौल का न्यूनतम तापमान माइनस 0.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। रेवाड़ी का न्यूनतम तापमान शून्य डिग्री और हिसार का तापमान एक डिग्री रहा। तापमान में लगातार गिरावट के कारण खेतों में पाला जमने लगा है। पाला जमने से किसानों को सब्जियों की सफल खराब होने का डर सताने लगा है।

मौसम विभाग का कहना है है कि आने वाले 4-5 दिनों तक सर्दी और गहरा सकती है ठण्ड से राहत की अभी उम्मीद नहीं है । 


loading...