शर्म नाक समाचार»

यह है यू पी 100 और 1090 की हकीकत, मैनपुरी में युवती से सरेबाज़ार छेड़छाड़ और लाठियों से पिटाई


यह है यू पी 100 और 1090 की हकीकत, मैनपुरी में युवती से सरेबाज़ार छेड़छाड़ और लाठियों से पिटाई


यूपी में जल्द ही चुनाव होने वाले है महिलाओं के सुरक्षा और चाक चौबन्द कानून-व्यवस्था के दावे करने वाले यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के राज्य में कानून व्यवस्था और महिलाओं की सुरक्षा की हालात बहुत ही बदतर है।   उत्‍तर प्रदेश के मैनपुरी जिले में एक महिला के साथ छेड़छाड़ एवं मारपीट की अत्यंत शर्मनाक घटना सामने आई है। मैनपुरी मुलायम सिंह यादव के पोते तेज प्रताप यादव का संसदीय क्षेत्र भी है। 

सूत्रों के अनुसार मैनपुरी के किशन थाना क्षेत्र  में रहने वाले अरविंद तिवारी अपनी पत्नी वंदना के साथ बाजार से जा रहे थे , एक जगह उन्होंने एक पता पूछा तो वही पर खड़े कुछ युवक महिला से छेड़छाड़ करने लगे,  जब महिला और उसके पति ने छेड़खानी का विरोध किया, तो बेख़ौफ़ मनचले गुन्डो ने उसमें वहीँ का दबंग आनंद यादव शामिल था भरे बाजार में सैकड़ो लोगो के सामने ही दोनों पति-पत्नी को  लाठियों से बर्बरता पूर्वक  पीटा, जिससे पति पत्नी और उनका बच्चा बुरी तरह से घायल हो गए । हैरानी की बात यह रही कि इस दौरान कोई भी उन्हें बचाने के लिए आगे नहीं आया। 

युवती के अनुसार ,उन लफंगों ने उस पर अश्लील टिप्पणी की और उससे अभद्रता करते हुए कहा कि वह कैसे कपड़े पहनती है, फिर उसके साथ छेड़खानी व मारपीट की विरोध करने पर उसे लाठियों से बुरी तरीके से सड़क पर पीटा गया, उन मनचलो का आतंक इतना था कि बाजार में किसी ने भी उन्हें नहीं रोका और पुलिस के मौके पर पहुंचने तक आरोपी भाग गए ।  

लेकिन यू पी पुलिस का सबसे शर्मनाक चेहरा तब सामने आया जब लोकल पुलिस भी उन आरोपियों को बचाने में लग गयी उलटे महिला और उसके पति को ही अपने अदब में लेने की कोशिश की, पुलिस ने महिला को नशे में बताते हुए उसकी रिपोर्ट लिखने तक से मना कर दिया । 

फिर जब महिला ने रिपोर्ट ना लिखे जाने का विरोध किया और अपने लहूलुहान सर को एक दुकान के शटर में दे मारा तो पुलिस ने मामले की गम्भीरता को देखते हुए  तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया । इस घटना का वीडियो सोशल मिडिया में वायरल हो गया है । 

प्रश्न यह है कि क्या उत्तर प्रदेश में गुन्डो मनचलो के हौसले इतने बुलंद है कि उन्हें कानून का ज़रा भी खौफ नहीं है, यू पी 100 और महिला की सुरक्षा का दम भरने वाली 1090 सेवा केवल कागज़ पर, समाचार के विज्ञापनों तक ही सीमित हैऔर सबसे बड़ी बात जो पुलिस बदमाशो को बचाने में जुट गयी उससे कैसे इंसाफ की, इस तरह की घटनाओ को रोकने की उम्मीद की जा सकती है।  

loading...