31 दिसंबर की रात | नए साल की पार्टी | महिलाओं के साथ छेड़खानी

शर्म नाक समाचार»

बेंगलुरु : नए साल के जश्न पर महिलाओं से छेड़छाड़ की घटना पर कर्नाटक के गृहमंत्री का भद्दा बयान


बेंगलुरु : नए साल के जश्न पर महिलाओं से छेड़छाड़ की घटना पर कर्नाटक के गृहमंत्री का भद्दा बयान


बेंगलुरु। देश के महानगरों में शामिल बेंगलुरु के पॉश इलाके में 31 दिसंबर की रात नए साल की पार्टी करना महिलाओं को भारी पड़ा क्योंकि ऐसी महिलाएं भले ही अकेली थीं या परिवार के साथ, ज्यादातर को छेड़खानी और भद्दी टिप्पणियों का सामना करना पड़ा। 31 दिसंबर को 1500 पुलिसवालों की मौजूदगी में महिलाओं से बदसलूकी हुई थी। इस मामले ने एक नया मोड़ तब ले लिया जब एसपी नेता अबु आजमी ने इसके लिए महिलाओं के पहनावे को दोषी ठहरा दिया।अबु आजमी से पहले कर्नाटक के गृहमंत्री भी इस तरह की घटनाओं के लिए महिलाओं को ही दोषी ठहरा चुके हैं। इतना ही नहीं राज्य के गृहमंत्री ने इस पूरे घटनाक्रम के लिए युवाओं के रहन-सहन के पश्चिमी तौर-तरीकों को जिम्मेदार ठहराया। अबु आजमी ने विवादस्पद बयान देते हुए कहा कि जो औरत नग्न घूमती है उसे ज्यादा मॉडर्न और फैशनेबल कहा जाता है।


यह हालात ऐसे वक्त में पेश आए जब इलाके में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात थे। राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष ललिता कुमारमंगलम ने पुलिस की कड़ी आलोचना की और गृहमंत्री जी. परमेश्वर की टिप्पणी के लिए उनकी आलोचना करते हुए उनके इस्तीफे की मांग की। रिपोर्ट के अनुसार, शहर की एमजी रोड और ब्रिगेड रोड पर हजारों पुरुषों की भीड़ ने महिलाओं के साथ छेड़छाड़ और अश्‍लील हरकतें कीं। यह सब पुलिस के सामने होता रहा। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए राज्‍य के गृहमंत्री जी परमेश्‍वरा ने एएनआई से कहा, 'नए साल के पहले दिन ऐसे वाकये होते रहते हैं। हम सावधानी बरत रहे हैं।' राष्ट्रीय महिला आयोग और कनार्टक राज्य महिला आयोग ने भी घटनाओं को लेकर पुलिस और प्रशासन से अलग-अलग रिपोर्ट मांगी है।

पुलिस ने कहा कि वह शनिवार की रात ब्रिगेड रोड और एमजी रोड के जंक्शन पर हुई कथित घटनाओं में शामिल आरोपियों की तलाश में जुटी है। नए साल की पार्टी के लिए यहां हजारों की संख्या में लोग जुटे थे। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि 31 दिसंबर की रात भीड़ नियंत्रित करने के लिए 1,500 पुलिसकर्मी तैनात थे, इसके बावजूद असामाजिक तत्वों ने महिलाओं के साथ छेड़खानी की और उनपर भद्दी और अश्लील टिप्पणियां कीं।


उन्होंने कहा कि पार्टी में अकेले आईं महिलाओं को वहां मौजूद महिला पुलिसकर्मियों की सहायता लेनी पड़ी और पुरुषों को अपने साथ आई महिलाओं को सुरक्षित ले जाने के दौरान मुश्किलों का सामना करना पड़ा।

संवाददाताओं से बातचीत में गृहमंत्री पी. परमेश्वर ने कहा कि यह सही नहीं है। हम इसकी जांच करेंगे और ध्यान रखेंगे ऐसा दोबारा ना हो। उन्होंने कहा कि यह देखने की जरूरत है कि ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन किस प्रकार हो और उन्हें कैसे नियमित किया जाए। हम 10,000 पुलिसकर्मी तैनात नहीं कर सकते।

loading...